Latest News
You are here: Home / News / समरस समाज पार्टी बिहार ने किया मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा

समरस समाज पार्टी बिहार ने किया मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा

पटना-(1 अगस्त) जदयू और बीजेपी द्वारा करोड़ों रूपए होर्डिंग और अन्य विज्ञापन माध्यमों पर चुनाव पूर्व प्रचार में खर्च किये जा रहे हैं. इस प्रकार के अंधाधुंध खर्चे पर नियंत्रण नहीं होने के कारण छोटी पार्टियों और निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों के सामने संकट खड़ा हो गया है.press conference samras party 1 august

आज पटना में पत्रकारों को संबोधित करते हुए समरस समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नागमणि ने कहा कि इस खर्चे को नियंत्रित किया जाना आवश्यक है. हम पूंजीपतियों और व्यापारियों की पार्टी जदयू और बीजेपी से पूछना चाहते हैं की इतने बड़े स्तर पर खर्चा करने के लिए उनके पास पैसा कहाँ से आ रहा है.

नितीश सरकार ने 10 साल के अपने कार्यकाल में विकास के कोई कार्य नहीं किये तथा जनता का पैसा पानी की तरह अब प्रचार में खर्च किया जा रहा है और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया जा रहा है.

नागमणि ने यह भी कहा कि अंधाधुंध हो रहे प्रचार के खिलाफ उनकी पार्टी चुनाव आयोग में शिकायत करेगी और हाई कोर्ट में भी इसके खिलाफ केस किया जाएगा.

नागमणि ने पत्रकारों को कहा कि समरस समाज पार्टी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी और पार्टी सत्ता में आने के बाद भ्रष्टाचार और महंगाई की रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाएगी.

उन्होंने कहा कि समरस समाज पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसने 6 महीने पहले ही अपना चुनाव घोषणा पत्र जारी कर दिया था. जबकि अन्य पार्टियाँ मात्र रस्म अदायगी के लिए चुनाव से 2-5 दिन पहले अपने घोषणा पत्र जारी करती है.

उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी पूरे 243 सीटों पर अपने प्रत्याशी चुनावी समर में उतारेगी ताकि जनता को स्वच्छ छवि के नेता चुनने का मौका मिल सके. उन्होंने मीडिया के द्वारा जनता से आव्हान किया कि अब समय आ गया है जब सत्ता लोलुभ पार्टिओं और व्यक्तियों के खिलाफ आवाज उठाई जाए और अपने साथियों की सरकार बनायें जो उपेक्षित वर्गों के लिए काम करे. उन्होंने कहा कि यूरोपीय देश जैसा कड़ा कानून बनाया जायेगा. यूरोप में कड़ा कानून है कि कोई महिला किसी पर थाने में केस करती है तो कानून है कि अमुख व्यक्ति तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाता है. अक्षरश: कानून बनाया जायेगा.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सतेन्द्र कुमार भट्ट ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि बिहार का नालंदा विश्वविध्यालय विश्व में शिक्षा का सबसे बड़ा केंद्र हुआ करता था, किन्तु आज ये स्तिथि है कि बिहार आज शिक्षा के क्षेत्र में पीछे है. पूर्ववर्ती सरकारों के मंत्रियों ने केवल अपने बच्चों को बाहर शिक्षा दिलवाई, लेकिन इस राज्य के बच्चों की शिक्षा की तरफ ध्यान नहीं दिया.

उन्होंने कहा कि समरस समाज पार्टी के सत्ता में आने के बाद शिक्षा व्यवस्था की पुन: समीक्षा की जायेगी और शिक्षा का स्तर ऊँचा उठाने के लिए काम किया जाएगा साथ ही विद्यार्थियों को आधुनिकतम टेक्नोलॉजी से रूबरू करवाया जाएगा और मेधावी छात्रों को मुफ्त लैपटॉप उपलब्ध करवाए जायेंगे. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राकेश कुमार मौर्य (पूर्व मंत्री उत्तरप्रदेश) ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि पार्टी की उच्च स्तरीय कमिटी की कल हुई मीटिंग में सर्व सम्मति से श्री नागमणि को मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट करते हुए चुनाव लड़ेगी. उन्होंने कहा कि सभी प्रमुख समुदायों से मुख्यमंत्री बनाये गए किन्तु कुशवाहा समाज से कोई भी मुख्यमंत्री आज तक नहीं बना जबकि कुशवाह समाज कुल जनसँख्या का 10 प्रतिशत है. इसलिये अब समय आ गया है कि इस समाज को भी आगे लाया जाए और इस समाज से इस बार मुख्यमंत्री बनाया जाए. इसीलिए श्री नागमणि जो कि हिंदुस्तान के दो व्यतियों में से पहले ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें चारों सदनों के कार्यकाल का अनुभव है, को मुख्यमंत्री बनाया जाए ताकि उनके अनुभव से प्रदेश का विकास संभव हो.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में समरस समाज बनाने के लिए सभी सम्प्रदायों को समुचित प्रतिनिधित्व देते हुए हर संप्रदाय में से एक एक उप मुख्यमंत्री बनाया जायेगा.

समरस समाज पार्टी ने आज जे पी ठाकुर को संवाददाता सम्मलेन में राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष भी घोषित किया.

Scroll To Top
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com

Hit Counter provided by laptop reviews